• शनिवार, 26 नवंबर, 2022
मुद्रास्फीति का ढीला पड़ता जोर
व्यापार हिंदी द्वारा |

थोक एंव खुदरा दोनों मोर्च पर मुद्रास्फीति मौद्रिक और बजटीय मुद्रास्फीति खुदरा अक्टूबर-सितंबर में अंकित 7.41 प्रतिशत से घटकर 6.77 प्रतिशत और थोक 10.7 प्रतिशत से गिरकर 8.39 प्रतिशत दर्ज हुई है। थोक मुद्रास्फीति 19 माह के बाद सबसे नीचले स्तर पर आया है। यह खनिज तेल, औद्योगिक धातुओं, धातु उत्पाद, टेक्सटाइल और अन्य खनिज के भाव में आई गिरवाट के कारण है। खुदरा भावों की मुद्रास्फीति भी काफी समय के बाद सात प्रतिशत के नीचे देखी गई है। इसके लिए सब्जियों, फल दलहन व खाद्य तेलों के भाव की गिरावट जिम्मेदार है। 

Read More
हेडलाइंस