• शुक्रवार, 03 फ़रवरी, 2023
अन्य देशों की तरह भारत को भी नौकरी करने वालों की निवृत्ति उम्र बढ़ाने हेतु विचार करना चाहिए
व्यापार हिंदी द्वारा | | Views - 32

वर्तमान में जीने की फिलासूफी भारतीयों को आदत पड़ गई है। इतने हद तक की जिन्दगी का अस्तित्व आय के झरने की तरह सूख जाए और उसे बनाए रखने के लिए हाथ पांव मारना पड़े ऐसी चिंता भी खास सताती नहीं। हमारे नीतिकारों के पेट का पानी भी हिलता नहीं। परिणामस्वरूप, हम वृद्धावस्था में सामाजिक सुरक्षा के कवच के मामले में कंगाल हालत में है। Read More

 

Read More
हेडलाइंस
कंपनी समाचार
और समाचार पढ़ें