• मंगलवार, 05 मार्च, 2024

`मैं नहीं, सब कुछ' खुशी की कुंजी है

गांधीजी ने प्रसिद्ध रूप से कहा था, `पृथ्वी के पास सभी की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त संसाधन हैं लेकिन एक आदमी के लालच को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं।`  हालांकि, अब प्रचलित संस्कृति कहती है, `मेरे पास सब कुछ होना चाहिए और मुझे वह मिलेगा`