• गुरुवार, 30 मई, 2024

अमेरिका के आर्थिक विकास की अनिश्चितता के चलते सोना दिशाहीन   

हमारे प्रतिनिधि 

राजकोट। वैश्विक बाजार में सोने का भाव मजबूज रेंज में स्थिर हो गया है। अमेरिकी फेड द्वारा ब्याजदर के मुद्दे पर कोई संकेत नहीं मिल रहा है। जिसके कारण बाजार को दिशा नहीं मिल रही है। न्यार्यक में सोने का भाव 2034 डॉलर और चांदी का भाव 22.20 डॉलर पर था। 

यूबीएस के विश्लेषक कहते है कि, अल्पावधि के दौरान सोने की कीमतें एक सीमित दायरे में बनी रहेगी। मध्यस्थ बैंकों की मांग अच्छी है। विशेषकर चीन की खरीदी अच्छी है। जनवरी महीने की 10 टन की खरीदारी हो चुकी है। मध्यस्थ बैकों का समर्थन हो तो सोने का भाव घटने की संभावना थी।

एफओएमसी के सदस्य जब बुधवार की बैठक में मिलेंगे तो आर्थिक मामलों पर क्या टिप्पणी करेंगे इस पर सब की नजर है। निवेशक इसका इंतजार कर रहे है। नए सप्ताह में केवल अमेरिका के मुद्रास्फीति के आंकड़ें घोषित होंगे। 

फेड के दो अधिकारियों का कहना है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था का आर्थिक परिदृश्य अपेक्षित है। मंहगाई से लड़ने के लिए ब्याजदर पहला विकल्प है। अमेरिका के आर्थिक आंकड़ें कमजोर नहीं है, इसलिए मार्च में ब्याज दरों में कटौती की संभावना अब कम हो गई है, लेकिन मई में यह उम्मीद बढ़ गई है। 

राजकोट आभूषण बाजार में 24 कैरेट शुद्धता वाले सोने का भाव प्रति 10 ग्राम 64000 रुपया स्थिर थी। जबकि मुंबई में 167 रुपया से बढ़कर 62646 था। राजकोट में एक किलो चांदी 300 रुपया से घटकर 70400 रही और मुंबई में 118 रुपया घटकर 69866 रुपया रही।